चिन्मय विद्यालय में धूमधाम से मनाया गया राष्ट्रीय खेल दिवस

0
492

भारतदेश के हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्मदिवस को राष्ट्रीय खेल दिवस के रुप में धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर बच्चों को संबोधित करते हुए विद्यालय अध्यक्ष विश्वरुप मुखोपाध्याय,  ने कहा कि आज हम खेल के विश्व में अपनी विशेष छाप छोड़ रहे है। हमार प्रदर्शन लगातार बेहतर हो रहा है। खेल का पहला पोशाक अनुशासन है। खेल मैदान के अंदर व बाहर अनुशासन अति आवश्यक है। खेल हमें नेतृत्व की क्षमता सिखाता है।     राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर अंतर सदन प्रतियोगिता वालीवॉल का बालक वर्गो (जुनियर व सिनियर) में फाइनल खेला गया। सिनियर में फाइनल में अगिन सदन ने वायू सदन को सीधे मुकाबले में 15-8 एवं 15-9 से पराजित किया। साथ ही जुनियर के फाइनल में वायू सदन ने जल सदन को 16-14 एवं 15-03 से हराकर कर विजेता बना। बालिका वर्ग में वायू सदन ने अग्नि को 15-13, 10-15 एवं 15-13 से हराकर फाइनल जीता। मैच के दौरान अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षक जयदीप सरकार ने बच्चों का हौसला बढ़ाया एवं सीनियर विजेता को ट्रॉफी प्रदान की।

बालक जुनियर वर्ग के कबड्डी में जल सदन ने पृथ्वी सदन को 42-22 से परास्त किया। वहीं बालिका वर्ग में अग्नि ने पृथ्वी सदन को 25-10 से हराया।

    फुटबॉल में अगिन सदन व वायू सदन में टाई ब्रेकर के माध्यम से अग्नि सदन को 4-2 से हराकर ट्राफी पर कब्जा जमाया। इस दौरान  आचार्या स्वामिनी संयुक्तानंद, अध्यक्ष विश्वरुप मुखोपाध्याय, सचिव महेश त्रिपाठी, प्राचार्य डॉ अशोक सिंह, उप-प्राचार्य, अशोक कुमार झा, हरिहर पाडें उपस्थित थे।

     कार्यक्रम को सफल बनाने में शरीरिक शिक्षा विभाग के प्रमुख हरिहर पाडे, संजीव सिंह, प्राजंल सेकिया, मोहन साव, रोहन, मधुमिता, विथिका, उज्जवल, नुपूर व सूरजीत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। साथ ही अमरेन्द्र उपाध्याय, निशांत सिंह भी उपस्थित होकर बच्चों का हौसला बढ़ाया। एक प्रर्दशनी मैच शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के बीव खेला गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here