काम के दौरान लाइट मिस्त्री की मौत

0
1822

मुआवजे की मांग को लेकर बवाल, पुलिस को करना पड़ा बल प्रयोग

बोकारो: बोकारो के उपशहर चास में रविवार को भारी अशांति फैल गयी। चेकपोस्ट स्थित मंदिर के समीप स्थित इलाका पूरी तरह छावनी में तब्दील रहा। घंटों यातायात बाधित रहा और अशांति का माहौल बना रहा। लोगों के कथित हंगामे के कारण स्थिति एेसी हुई कि पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। सूत्रों के अनुसार भीड़ को तितर-बितर करने के लिये पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ी, जिसमें कुछ लोग मामूली रूप से चोटिल भी हो गये। घटना का कारण मुआवजे की मांग को लेकर किया गया हंगामा बताया जा रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार काम के दौरान शनिवार को मृत चंदन कुमार नामक बिजली मिस्त्री के परिजन रविवार को मुआवजे की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। चेकपोस्ट, चास स्थित मंदिर के समीप वे शव के साथ एनएच जाम कर वहीं बैठ गये। इसी बीच कुछ लोगों ने टायर वगैरह जला दिये। चास थाने की पुलिस तथा मौके पर मौजूद चास की अंचलाधिकारी वंदना शेजवलकर ने लोगों को समझाने की लाख कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। इस हंगामे की स्थिति के कारण काफी देर तक यातायात व्यवस्था बाधित रही और लोग परेशान रहे। टायर जलाये जाने के बाद पूरा इलाका धुएं से भर गया। उसके बाद भीड़ पर काबू करने के लिये पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। जवानों ने लाठियां चटकायीं। हालांकि, चास एसडीओ सतीश चन्द्रा ने लाठीचार्ज की बात से इनकार किया, वहीं सीओ वंदना ने विवशतावश मामूली बल प्रयोग की बात बतायी।

क्या है मामला

चास स्थित भोजपुर कालोनी निवासी वीरेन्द्र कुमार का लगभग 15 वर्षीय पुत्र चंदन कुमार वहीं के कृष्णा टेन्ट हाउस व डेकोरेटर के यहां बिजली मिस्त्री का काम करता था। परिजनों के अनुसार शनिवार दिन को को भोजपुर कालोनी में ही किसी शादी वाले घर में काम के बाद वह घर लौट गया। उसके बाद शाम को कृष्णा टेन्ट हाउस वाले चंदन को पुनः घर से ले गये। अपनी छानबीन के आधार पर चास थाना प्रभारी प्रमोद पांडेय ने बताया कि चंदन की मौत काम के दौरान शादी वाले घर की छत से गिरकर हो गयी। उक्त संदर्भ में परिजनों के आवेदन के आधार पर अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया गया तथा रविवार को शव को पोस्टमार्टम व आगे की कार्रवाई के लिये भेज दिया गया। सूत्र बताते हैं कि घटना के बाद शनिवार रात ही टेन्ट हाउस वाले के साथ ही मुआवजा आदि को लेकर मामले का सुलह कर लिया गया था। इसके बाद पुनः रविवार को शव लेकर प्रदर्शन किया गया। एसडीओ ने कहा कि जब मामले का सुलह हो गया था तो फिर इस तरह का हंगामा किया जाना सही नहीं है। परिजन वीरेन्द्र ने मीडियाकर्मियों से बातचीीत में कहा- हमलोग इंसाफ चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here